भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं नहीं हिमकण हूँ जो गल जाऊंगी / कविता किरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वत्सला से
वज्र में
ढल जाऊंगी,
मैं
नहीं हिमकण हूँ
जो गल जाऊंगी।

दंभ के
आकाश को
छल जाऊंगी,
मैं
नहीं हिमकण हूँ
जो गल जाऊंगी।

पतझरों की पीर की
पाती सही,
वेदना के वंश की
थाती सही।
कल मेरा
स्वागत करेगा सूर्योदय,
आज दीपक की
बुझी बाती सही।

फिर
स्वयं के ताप से
जल जाऊंगी
मैं
नही हिमकण हूँ
जो गल जाऊंगी