भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं पुकारता हूँ कि ग़ौर करो / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं पुकारता हूँ कि ग़ौर करो
पुकारता हूँ कि आओ क़ब्र से बाहर
कभी तुमने धोया-पोंछा था मुझे
बुहारकर मेरी ही यादें मेरे बारे में
सब मेरी यादें मेरे अपने बारे में

अब एक दिन मैं बुहार दूंगा तुम्हें
तुम्हारी याद और मेरे बारे में तुम्हारी यादों से
ताकि कोई खड़ा नहीं हो हम दोनों के बीच ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना