भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं फिरूँ क्यों कू-ब-कू / अमन चाँदपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं फिरूँ क्यों कू-ब-कू
रब है मेरे रू-ब-रू

मैंने सोचा था जिसे
आप हैं वो हू-ब-हू

क्या हूँ मैं महसूस कर
जान मेरी मुझको छू

ज़ीस्त की हर राह पर
ठोकरें हैं चार सू

देखना है जो अदब
आप आएँ लखनऊ