भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं भी अमरीका का गीत गाता हूँ / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  मैं भी अमरीका का गीत गाता हूँ

मैं भी अमरीका का गीत गाता हूँ
मैं उसका एक काला बाशिंदा हूँ
जब मेहमान आते हैं
वे मुझे रसोईघर में भेज देते हैं
पर मैं हँसता हूँ
और खा-खा कर पेट भर लेता हूँ
और पहलवान की तरह मोटा होता रहता हूँ

कल जब मेहमान आएँगे
मैं सीधे मेज़ पर बैठ जाऊँगा
और किसी की हिम्मत नहीं होगी कहने की
कि जाओ रसोईघर में
वहीं जाकर खाना खाओ

फिर वे देखेंगे कि
मैं कैसा जवाँ मर्द हूँ
और शर्म से सिर झुका लेंगे
मैं भी अमरीका का ही एक आदमी हूँ

मैं भी अमरीका का गीत गाता हूँ


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय