भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं भी / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं भी
अमेरिका के गीत गाता हूँ ।

मैं हूँ काला, भाई,
जब दोस्त-अहबाब आते हैं
वे मुझे खाने के लिए रसोई में भेज देते हैं ।

लेकिन मैं हँसता हूँ,
छककर खाता हूँ,
और मज़बूत होता जाता हूँ ।

आनेवाले कल के दिन
मैं भी मेज़ पर बैठूँगा
जब दोस्त-अहबाब आएँगे ।

फिर
किसी की हिम्मत न होगी
कि मुझसे कहे,
"रसोई में जाकर खाओ ।“

साथ ही,
वे देखेंगे — कितना ख़ूबसूरत हूँ मैं
और शरमा जाएँगे...।

आख़िर मैं भी अमेरिका हूँ ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य