भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं मिला एक जूतों के फ़ीतों के विक्रेता से / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं मिला एक जूतों के फ़ीतों के विक्रेता से
बाज़ार में, छोर पर बंद गली के
वह बेचना चाहता था मुझे फ़ीते
जब कि मेरे पास जूते ही नहीं,
लाल फ़ीते, काले फ़ीते,
फ़ीते सूती और रेशमी
उसने ग़ौर नहीं किया कि मैं नंगे पाँव था
वह यक़ीनन रहा होगा अंधा या बावरा
या, मुमकिन है, कि चतुर सुजान
हमने किया परस्पर अभिवादन
"तुम्हें तो पता है" के संकेत के साथ
और खिलखिला कर हँसे हम एक साथ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना