भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं वेमुला हूँ / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मेरा देश है लगता क्यों किसी और का है
ये अगर लोकतन्त्र है तो है किस दौर का है

मैं अन्धेरे में ही रहने की आदत डालूँ या बदलूँ
मैं जानता हूँ जानते हो गुरूर ज़ोर का है

हमको कुछ हक़ यहाँ पे थे हासिल अब न हों
ये मामला नहीं दो रोटियों कुछ कौर का है

तू मुझे जान ले पहचान ले मेरा बाजू
तू बता तू कहाँ किसकी तरफ़ किस ओर का है

अब तो मेरी आज़ादी सादी-सी देशद्रोह
मेरा मन भी मगर कोहराम और शोर का है

मैं भी अपमान से जी लूँ कि मैं क्यों मिट जाऊँ
मैं वेमुला हूँ मुझे इन्तज़ार भोर का है