भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं सपना देखता रहता हूँ / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सपनों को हाथ में लिए
पीतल का एक फूलदान
बनाता हूँ
और एक गोल फ़व्वारा
जिसके बीच एक सुन्दर सी मूर्ति है ।

टूटे हुए दिल से
एक गीत गाता हूँ
और तुमसे पूछता हूँ :
क्या मेरा सपना तुम्हें समझ में आता है ?

कभी तुम हां कहती हो,
कभी कहती हो — नहीं, समझ में नहीं आता ।
कुछ भी हो,
कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता ।

मैं सपना देखता रहता हूँ ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य