भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं सुपुर्दे-ख़ुदफ़रामोशी हूँ तू महवे-ख़ुदी / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मैं सुपुर्दे-खुदफ़रामोशी हूँ तू महवे-ख़ुदी।
तेरी हुशयारी से अच्छा है मेरा दीवानापन॥

ग़ाफ़िलों पर गर न हो फ़ितरत को मुर्दों का यक़ीं।
रात को दुनिया पै डाला जाय क्यों काला कफ़न॥

फ़र्श से ता-अर्श मुमकिन है तरक्क़ी-ओ-उरूज।
फिर फ़रिश्ता भी बना लेंगे तुझे, इन्साँ तो बन॥