भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं हूँ क्योंकि / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मैं हूँ क्योंकि...
ज़माने के बिछाए अंगारों पर
जेठ की दुपहरी में अकेले ही
मैंने चलने का हुनर सीखा है।

मैं हूँ क्योंकि ...
वादा खिलाफ़ी नहीं, इश्तेहारों पर
बेअदबी की, बेवफाई मेरे खूँ में नहीं
मैंने ढलने का हुनर सीखा है।
मैं हूँ क्योंकि...
दिल जलाया, रौशनी की चौबारों पर
अपना दावा यूँ ही ठोका ना कभी भी
मैंने जलने का हुनर सीखा ।