भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैया केॅ मनाय लियवै हे / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कौन फूल रोपलॅे रे मलिवा रे, कौन फूल मालिनियां न रोपल हे।
मैया हे कौनी रे फूलवा रोपै, मालिन केरोॅ बेटी रे-
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
बेली फूल रोपलेॅ रे मालिवा रे-
चमेली फूल मलिनियां न रोपल हे।
मैया हे अड़हुल फूलवा रोपै- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
कथी सें पटावै मालिवा रे कि-
कथी सें मलिनियां पटावै पटावै हे।
मैया हे कथी सें पटावै- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
जलोॅ सें पटावै मालिवा कि
नीरोॅ सें मलिनियां पपटावै हे।
मैया हे दूध सें हे पटावै- मालिन केरोॅ बैटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
कौन फूल फूललै रे संझौती रे-
कौनी फूल आधी रतिया न फूलै हे
मैया हे कौनी रे फूलवा फूलै भोर भीनसरेॅ रे-
बेली फूल फूललै रे संझौती रे चमेली फूल आधी रतिया न फूलै हे
मैया हे अड़हुल फूलवा फूलै भोर भीनसरेॅ हे
रूसली मैया केॅ मनाय ने लियवै हे
कौनी दौरी तोड़लेॅ रे मालिवा रे
कोनी दौरी मलिनियां न तोड़लॅे हे।
मैया हे कौनी रे दौरी तोड़ै- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
सोना दौरी तोड़लेॅ मालिवा कि
रूपा दौरी मलिनियां न तोड़ै हे।
मैया हे बांसोॅ रे दौरी तोड़े- मालिन करोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
कौनी सूत गूंथलें रे मालिवा रे
कौनी सूत मलिनियां न गुंथै हे
मैया हे कौनी रे सूत गुंथै- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
सोना सूत गूंथ ले रे मालिवा रे कि
रूपा सूत मलिनियां न गूथल हे।
मैया हे रूआ रे सूतें गूथल- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
किनका गला डालले मालिवा रे कि
किनका गला मालिनिया न डालै हे
मैया हे किनका रे गला डालै- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।
शीतल गला डालले रे मालिवा रे कि
मालत गला मालिनियां न डालले हे-
मैया हे कालि रे गला डालै- मालिन केरोॅ बेटी रे...
रूसली मैया केॅ मनाय न लियवै हे।