भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मैली हुई आ मन-झील बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैली हुई आ मन-झील बाबा
गाभां थकां उधाड़ो डील बाबा

कुण जाणै कद धुड़ जावै ओ घर
भींतां में रैवै नित सील बाबा

रास इत्ती ना ताणो सांस घुटै
दिरावो अब तो कीं ढील बाबा

ऐ दुख सोखता फिरै म्हानै इंयां
सोधै मांस जाणै चील बाबा

पासै री कांई किंयां ई पड़ै
सूक थारी थारी लील बाबा