भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मै आवारा बादल हूँ / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझको तुम आवाज ना देना

पलक भिगो कर नहीं देखना

मै आवारा बादल हूँ ,

तुम मुझे देवता मत कहना


अपना ही नहीं है ठौर कोई

बेबस करता है और कोई

हवा ने बंदी बना लिया .

तुम मेरी बंदिनी मत बनना


सपनो से बसा संसार कभी

मत कहना इसको प्यार कभी

विपरीत दिशाए है अपनी .

तुम मेरी संगिनी मत बनना


कल परसों में है मिटना

कैसे कह दू तुमको अपना

अंतिम यही नियति मेरी है,

इसे प्रेम तुम मत कहना