भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मै आवारा बादल हूँ / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझको तुम आवाज ना देना

पलक भिगो कर नहीं देखना

मै आवारा बादल हूँ ,

तुम मुझे देवता मत कहना


अपना ही नहीं है ठौर कोई

बेबस करता है और कोई

हवा ने बंदी बना लिया .

तुम मेरी बंदिनी मत बनना


सपनो से बसा संसार कभी

मत कहना इसको प्यार कभी

विपरीत दिशाए है अपनी .

तुम मेरी संगिनी मत बनना


कल परसों में है मिटना

कैसे कह दू तुमको अपना

अंतिम यही नियति मेरी है,

इसे प्रेम तुम मत कहना