भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोहतरमा / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपके बेटे को सुखण्डी है
उसे गोश्त का शोरबा दो
दूध पिलाओ
गोश्त और अण्डे खिलाओ

सूअर के इस दड़बे से
बाहर निकलो
पार्क ऐवेन्यू में
एक फ़्लैट ले लो

आप प्रेत जैसी
दिख रही हैं, मोहतरमा
चन्द दिनों के लिए
मायामी क्यों नहीं घूम आतीं

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य