भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोहन डार दीनो गले फांसी / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोहन डार दीनो गले फांसी॥ध्रु०॥
ऐसा जो होता मेरे नयनमें। करवत ले जाऊं कासी॥१॥
आंबाके बनमें कोयल बोले बचन उदासी॥२॥
मीरा दासी प्रभु छबी नीरखत। तूं मेरा ठाकोर मैं हूं तोरी दासी॥३॥