भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौत / सजीव सारथी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न जाने किस मिटटी के,
बने होते हैं ख्वाब ये,
बारहा गिरते हैं पलकों से
टूट टूट कर,
मगर मौत नही आती इन्हें।

कहीं से उम्मीद की
कोई हवा चलती है,
और धड़कने लगते हैं,
सांस लेने लगते हैं,
फिर एक बार,
मगर किसी रोज
यूं भी होता है,
कि मर जाता है कोई ख्वाब,
पलकों से गिर कर टूटता है,
चूर हो जाता है,
और उम्मीदों की हवा भी
जैसे बंद हो जाती है,
उस रोज,
जिंदगी भी सो जाती है,
मौत का कफ़न ओढ़ कर,
इस इंतज़ार में कि -

शायद फिर कोई ख्वाब आये,
इस नींद से जगाये ।