भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौन वाणी / जय छांछा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे कान चुंबकीय हैं
मेरी आँखें सजग हैं
मेरा ह्रदय एकदम संवेदनशील है
इसलिये विश्वास करो प्रिये
मैं समझता हूँ तुम्हारी
मौन वाणी ।

वैसे तो मैं कोई कुशल वैज्ञानिक नहीं हूँ
शास्त्रवेत्ता पंडित भी नहीं हूँ
न ही भविष्य जानने वाला कोई ज्योतिष ही हूँ
फिर भी विश्वास करो प्रिये
मैं समझता हूँ तुम्हारी
मौन वाणी ।

नि:छल हैं तुम्हारी आँखें
आडंबरविहीन हैं तुम्हारा चेहरा
पारदर्शी है तुम्हारा ह्रदय
इसलिये विश्वास करो प्रिये
मैं समझता हूँ तुम्हारी
मौन वाणी ।

चमकते हुए चेहरे से
प्रकट तुम्हारी खुशियाँ
चंचल तुम्हारी भौंहें
आतुर हैं जो शब्द कहने को
खुशी से कंपित तुम्हारे होंठ
जो गुनगुनाते हैं अमूक शब्द
सब कुछ सब कुछ समझता हूँ
इसलिये विश्वास करो प्रिये
मैं समझता हूँ तुम्हारी
मौन वाणी।

मूल नेपाली से अनुवाद : अर्जुन निराला