भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौसम / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितने बादल उमड़ेंगे आसमान में
उतनी घास उमगेगी ज़मीन से
दोनों के ही उद्दण्ड मौसम
अतिथियों की तरह जाते हैं कृत-कृत्य होकर ।