भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

म्हानै तो औ ई चाव कलाळी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(भवानीसिंह राठौड़ खातर)

म्हानै तो औ ई चाव कलाळी
म्हैं लेसां, तू दै दाव कलाळी

आ मौज महफिल तो मन री हुवै
अठै आ कुण पूछै भाव कलाळी

अळधै सूं देख्यां कांई सरै
काळजियै पूग्यां साव कलाळी

एक प्यालो दे क्यूं रोकै हाथ
मांय लागी लाव-लाव कलाळी

तूं मत रूसजै, तूं सांस म्हारी
नित हरखी-हरखी आव कलाळी