भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

म्हारा सगळा ऐढा सर जावै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारा सगळा ऐढा सर जावै
जे तूं एकर म्हारै घर आवै

पलक बीड़ जद करूं थांनै याद
ओळूं-उजास मन में भर जावै

भेळी-भेळी मत हो तूं मरवण
हाथ लगायां रूप निखर जावै

बिरछ सहारो ले आ बेल चढी
रूं-रूं में सौरम-सी भर जावै

ऐ सुपना है सुपनां रो कांई
रेत रै घर दांई बिखर जावै