भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हारे आलीजा री चंग / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

म्हारे आलीजा री चंग, बाजै अलगौजा रे संग,
फागण आयो रे!

रूंख-रूंख री नूंवी कूपळा, गीत मिलण रा अब गावै
बन-बागां म काळा भंवरा, कळी-कळी ने हरसावै
गूंझै ढोलक ताल मृदंग, बाजे आलीजा री चंग
फागण आयो रे!

आज बणी हर नारी राधा, नर बणिया है आज किसन
रंग प्रीत रो एडो बिखर्यो, गली-गली है बिंदराबन
हिवडै-हिवडै उठे तरंग, बाजे आलीजा री चंग
फागण आयो रे!