भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हारै चितराम नै नीं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारै मनै
किणी ऊणै-खूणै में
साव नागी-उघाडी बैठी तूं
लागै अणहद रूपाळी

कागद माथै कलम सूं
चितारियो थारो रूप
जग में हुई चावी तूं
देखै अर सरावै लोग-
रूप-रंग-उणियारो
   अंगां रा मोड़
रंग सागै रंग रो जोड़

म्हारै चितराम नै नीं
थनै ई सरावै बै
तूं ई बैठी है
सगळां रै मनां में
किणी-न-किणी ठौड
साव नागी-उघाड़ी !