भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हें तो सगलाई देवता भेट्यां रे भंवरा / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

म्हें तो सगलाई देवता भेट्यां रे भंवरा
म्हारे मायाजी रे तोले कोई नहीं भंवरा
म्हे तो सगलाई कुलदेव भेंट्या रे भंवरा
म्हारे भोपाजी रै तैल सिंदूर चढ़े रे भंवरा
म्हें तो सगलाई देवां ने भेंट्या रे भंवरा
म्हारे मायाजी रे तोले कोई नहीं रे भंवरा