भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

म्हैं आयो जणा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक दिन भंवरो आयो
फूलां बंतळ करी कोनी

पेड़ री डाळ माथै
चिड़ो एकलो ई करतो रैयो चीं-चीं
चिड़ी सुर में सुर मिलायो कोनी

हेलो पाड़ियो आभै
पण धरती बोली कोनी

बोली कोनी धरती जणा पछै
तूं किंयां बोलती

उन्हाळै सूं अमूज्योड़ी धरती माथै
बरस्या बादळ
पसवाड़ां माथै पसवाड़ा फोरण लागी
धरती

बीं घड़ी
म्हैं आयो जणा
मुळकती लाधी म्हनै तूं ई !