भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

म्हैं कठै ? / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जियां बै चालता
म्हैं ई चालण लाग्यो
जियां बै बोलता
म्हैं ई बोलण लाग्यो

म्हैं मुळकता
मन नै आछा लागता जियां
म्हैं ई मुळकण लाग्यो

दुनिया नै दीसण लाग्यो
बांरो उणियारो
म्हारै मांय

एक दिन इयां ई
अचाणचक ठोकर लागी
संभळ’र देख्यो
बांरो तो रूं ई खांडो कोनी हुयो

बै तो आज ई ठावी ठौड़ है
पण म्हैं कठै ?