भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

म्हैं बड़भागी खरो, पण जोर कांई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं बड़भागी खरो, पण जोर कांई
म्हैं दीवो म्हारी उमर भोर तांई

थां जोगो हूं’क नईं, थे ई जाणो
पग देख रोवूं, नाचूं मोर दांई

जद देखूं लेणायत ऊभा लाधै
घरां आवूं-जावूं म्हैं चोर दांई

धरती हरी हुई तो बा जाणै
म्हैं आया अर बरस्या लोर दांई

बीं हेत बीं अपणायत खातर आज
भटकै मन-राम शबरी बोर दांई