भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म दूर भएर के भो / अम्बर गुरुङ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म दूर भएर के भो, अभिषाप छाएर के भो
यति रोए जिन्दगीमा, कि फेरि रोएर के भो

जति भावना छन सबै, रित्ता छन यति रित्ता
ती जागरणका सामुन्ने, उत्साह छन रित्ता-रित्ता
तिम्रो साथ छुटेर के भो, नयाँ हात पाएर के भो
यति खोज्छु सम्झनलाई, कि बिर्सिसकेर के भो

आफ्नै यी धडकनहरू, भिन्न छन यति भिन्न
बदलेछु म स्वयं नै, लाचार छु स्वयं चिन्न
म उदास भएर के भो, म खुशी भएर के भो
यति विरान जिन्दगी छ, कि विरानी आए के भो