भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

यक़ीन न हो तो चलो देख लो अभी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यक़ीन न हो तो चलो देख लो अभी।
हर किसी के भीतर है सूखी नदी।

यह ख़ौफ़, यह ख़ामोशी अजीब नहीं,
उड़कर देख, मौसम बिगड़ेगा अभी।

सपनों की लाश नहीं देखी तूने,
ताबीर की बातें करता है तभी।

भीतर उठी आवाज़, पर सुनी नहीं,
इतना कुसूर तो कर चुके हम सभी।

धीरे ही सही, लेकिन फूंक मारो,
बुझते अंगारे खिल जाएंगे अभी।