भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यथास्थिति / एरिष फ़्रीड / प्रतिभा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो चाहता है —
संसार जैसा है , वैसा ही रहे

वह नहीं चाहता
कि संसार बाक़ी रहेI


मूल जर्मन से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय