भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यदि तेरे नत नयनों में भर आता नीर नमन का / ललित मोहन त्रिवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि तेरे नत नयनों में भर आता नीर नमन का !
तो इतना एहसास न होता एकाकी जीवन का !!


अचक अचानक टूट गए क्यों अमर नेह के नाते
छोड़ गए क्यों गीत अधूरे अधरों पर लहराते
सागर की अनंत गहरे पर अभिमान न करते
लग जाता अनुमान कहीं यदि लहरों की थिरकन का !
तो इतना एहसास..........


देखी थी अव्यक्त वेदना पायल की रुनझुन में
सौ-सौ नमन प्रीत के देखे थे प्यासी चितवन में
यदि प्रणाम तक ही सीमित रह जाती अंजलि मेरी
तो मन्दिर उपहास न करता पाषाणी पूजन का !
तो इतना एहसास ...........

कब अभीष्ट थी अरुण कपोलों पर वसंत की लाली ?
कब इच्छित थी मादक नयनों से छलकी मधु प्याली ?
सौरभमय केसर क्यारी की भी तो चाह नहीं थी ,
एक सुमन ही काफ़ी था इस मन को अभिनन्दन का !
तो इतना एहसास ...............

कब-कब बता शलभ ने जल कर दोष दिया बाती को ?
मृग ने बता कभी कोसा है कस्तूरी थाती को ?
उपालंभ अब हम ही क्या जा उन्हें सुनाएँ जिनको ,
आकृति का विक्रतावर्तन भी लगा दोष दर्पण का !
तो इतना एहसास ..............