भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

यहां आपके ही लोग आपके खिलाफ़ हैं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहां आपके ही लोग आपके खिलाफ़ हैं।
कुछ होश में आइये, किस नींद में आप हैं?

आगे कहां जा रहे आप बिना कुछ देखे,
अंगारे बिछे, ऊपर बस जरा-सी राख है।

चारों दिशाओं से उमड़ रही आंधियां,
किसने कहा आपसे आज मौसम साफ़ है?

गले मिलें बेशक, लेकिन जरा संभलें,
लोगों की नीयत इन दिनों खराब है।

माला पहना चुके, बटोर रहे पत्थर,
लगता उनके मन कोई खुरापात है!