भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह माना आकाश में उड़ने लगे अब परिंदे / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह माना आकाश में उड़ने लगे अब परिंदे।
लेकिन कैसे मान लें, लोग नहीं हैं अब गंदे।

जमाने का सबसे हसीन ख्वाब है रौशनी,
लेकिन हो रहे हैं फिर वही अंधेरे के धंधे!

अब भी घुटती है सांस यहां, लेकिन क्या करें,
हर किसी को नज़र नहीं आते, ऐसे हैं फंदे!

तेरी गंगा के पानी पर ग़रूर ज़माने को,
अपने ही घर में प्यासे मर रहे तेरे बंदे!

याद आ रही आज नानी की कहानी जिसमें,
राजा को आंखें देकर योगी हो गए अंधे!