भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह समय नहीं है / शिवनारायण जौहरी 'विमल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं है यह समय
नहीं है यह समय

मसनद लगाए बैठ
हुक्का गुडगुड़ाने का
पान का बीड़ा दबा
रस पान करने का
न रंगीन पतंगें उड़ाने
होटलों मेँ ऐश करने का

समय है गलवान घाटी का
गरदन मरोड़ देने का
सीमा पर कुर्बान होने का
खून देने खून पीने का॥