भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

यह सिर्फ़ एक सरकार से नाख़ुश होने का मसला नहीं था / पराग पावन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं लड़की !
यह सिर्फ़ एक सरकार से नाख़ुश होने का मसला नहीं है
यह एक पार्टी से घृणा का मसला नहीं है
जिस नंगे आदमी को लजाधुर साबित करने में
उघड़ती जा रही है तुम्हारी भाषा
यह उसका भी मसला नहीं है

बहुत डरावनी होती है प्रतिशोध की फ़सल
बहुत हाहाकारी होती है बदले की आग
बहुत निरीह होता है
बलात्कारी के बचाव में खड़े तिरंगे का चेहरा
रोपी गई घृणाएँ बहुत देर तक फलती हैं
बहुत देर तक गंधाती है
प्यार के विछोह में मरी देश की आत्मा

देशप्रेम वह नहीं होता जो पन्द्रह अगस्त को
हूक की तरह उठता है तुम्हारे सीने में
या अस्त्र-शस्त्र सज्जित सैनिक को देखकर
जो उमड़ता-घुमड़ता है तुम्हारे मन के घाट पर

देशप्रेम होता है
धान की कच्ची फली में पलते दूध से
अपने लहू का स्वाद आना
और दो ईंट के बीच कुचल गई
अपनी उँगली की पीड़ा को
रोज़गार की पाली मुस्कान से निरस्त कर देना

देशप्रेम का पाठ उस प्रोेफ़ेसर से मत पूछो
जिसने जीवन भर गढ़ और मठ सिर्फ़ इसलिए तोड़ा
कि उसे सारे गढ़-मठ अपने मुताबिक़ चाहिए
देशप्रेम की कविता उस कवि से मत सुनो
जो काल के कपाल पर लिखता मिटाता है
लेकिन अपनी बरौनी पर बैठे क़ातिल को देख नहीं पाता है

नही लड़की !
यह व्यक्तिगत चुनाव और खुदगर्ज़ी का भी मसला नहीं है
तुम्हारी मेरी दौड़ अपनी-अपनी उम्र तक
तुम्हारा-मेरा बैर अपनी-अपनी साँस तक
पर गटर में घुटकर मर गए महन्ना मुसहर
और बैंगन तोड़ते बखत साँप डसने से मरी
रम्पत कोईरी की पत्नी
इस देश की चमचमाती महफ़िल में
दरबान की तरह अनिवार्य और उपेक्षित हैं
उन्हें भारतीय मानचित्र पर मात्र प्रश्नचिह्न की तरह देखना
एक कायराना रुमान है

तुम्हारा-मेरा बैर अपनी-अपनी साँस तक
लेकिन मूढ़ताओं का मज़ाक बनाती चार्वाक् की कविता
आबाद रहेगी इसी देश में
इसी देश में रहेंगे बुद्ध
अपनी हथेली पर अपना सिर लिए हुए
किसी बन्दूक किसी तोप से रोकी न जा सकेगी
कबीर के तर्कों की सेना
किसी भी राजसिंहासन से ठोस निकलेंगे
मीरा के इनकार के ऐतिहासिक फैसले
और रैदास के कठवत में भर दिए जाएँगे रंग
जिससे बनाया जाएगा भारत का सबसे मजबूत नक़्शा

चलो, मैं देशद्रोही ही सही
तुम्हारे आरोप की पुष्टि
मैं भट्ठे से धुँआसे अपने रंग से कर लूँगा
लेकिन अस्सी हज़ार के सोेफ़े पर बैठी तुम्हारी आवाज़
जिसमें सवा सौ बीघे खेत का घमण्ड ठनक रहा है
हमारे जन-गण-मन के अधिनायकों की चुगली करती है
और संदर्भ सहित व्याख्या करती है
भारत माता की जय में उठी तुम्हारी मुट्ठी की

देश की हड्डी में मज्जा बनकर घुल गया किसान
कमल के तिरालीस पर्याय पर गर्व कर सकता है
और बारिश के लिए कोई ताज़ा उपमा ढूँढ़ सकता है
लेकिन उनसे यह उम्मीद मत करना कि
उसमें किसी नायिका के भीगते आँचल के निशान होंगे

अभी मेरे क्षोभ पर तुम दया कर लो
अभी मेरी चिन्ता को चुटकुला कह लो
अभी मेरे दुख को राजनीतिक मान लो
लेकिन किसी दिन
इतिहास का उड़ता हुआ कोई घिनौना पन्ना आएगा
और वर्तमान के मुखपृष्ठ पर चिपक जाएगा
जिसपर गलियों में बहते ख़़ून को रोकने का
कोई उपाय नहीं लिखा होगा
और उस रोज़
तुम्हारा लज्जित अहंकार कह नहीं पाएगा कि
यह सिर्फ़ एक सरकार से नाख़ुश होने का मसला नहीं था
यह सिर्फ़ एक पार्टी से घृणा का मसला नहीं था ।