भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यादें-काँकर / सरस्वती माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
मन मंदिर
यादें अगरबत्ती
जलती हुई
2
यादों के पाखी
देर तक विचरे
मन -आकाश
3
शीशा-ए- दिल
यादों के पत्थर से
टकरा -टूटे
4
यादें काँकर
गिरें मन -सागर
अक्स डोलते
5
मन -सागर
छ्प-छप तिरती
यादों की नाव
6
यादों की नाव
मझधार पहुँची
भंवर घिरी
7
यादें उड़ीं
अतीत नभ तक
घटा -सी तैरी

यादों के पात
मन में डोलते- से
पाखी -से उड़े
9
हवा यादों की
पतझरी पात-सी
सरसरायी
10
सहेजे यादें
मन की एल्बम को
खोल रही हूँ