भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यादों में यादों का एक शहर छूटा / रवि सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यादों में यादों का एक शहर छूटा
दरिया के उस पार अकेला घर छूटा

सात समन्दर पार चले चलते आये
चिलमन के उस पार दीद-ए-तर छूटा

पीछे देखूँ तो पत्थर हो जाऊँगा
मंसूबों का आतिश-ज़दा[1] नगर छूटा

ऐसी नींद कि सपने सारे दफ़्न हुए
धरती कुछ इस तरह मिली अम्बर छूटा

मुस्तक़्बिल[2] का नक़्शा खेंचा काग़ज़ पर
क़ाइद[3] के पैरों से यहीं सफ़र छूटा

मिट्टी की बुनियाद सभी ता'मीरों[4] की
मे'मारों[5] का फिर भी देख असर छूटा

उछल कूद ये कर लेंगें अब बेतरतीब
लफ़्ज़ों से क़ाफ़िये[6] बहर का डर छूटा

शब्दार्थ
  1. जिसमें आग लगी हो (in flames)
  2. भविष्य (future)
  3. रहनुमा, नेता (leader)
  4. संरचना (structure)
  5. शिल्पी, राजमिस्त्री (architect, mason)
  6. तुकांत (rhyme); बहर (bahr) - छंद (meter in poetry)