भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

याद आई पुरानी सखियों की / अनु जसरोटिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याद आई पुरानी सखियों की
खुल गयीं खिड़कियाँ ख़यालों की

कोई काँटों को पूछता भी नहीं
धूम है हर तरफ़ गुलाबों की

क़ौ'ल और फ़े'ल एक जैसा हो
शान है इस में बादशाहों की

बन के दासी मैं आरती गाऊँ
कृष्ण की, राम की, शिवालों की

माँद है ताब रूबरू तेरे
माहताबों की आफ़ताबों की

मुझ को अपनी तरफ़ बुलाती है
ये घनी छाँव देवदारों की

झूमते गाते अब्र छा जायें
कह रही है ये रुत बहारों की

हम को इक दिन 'अनु' बसानी है
एक दुनिया अलग किताबों की।