भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

याद करना हर घडी़ उस यार का / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याद करना हर घड़ी उस यार का
है वज़ीफ़ा मुझ दिल-ए-बीमार का

आरज़ू-ए-चश्मा-ए-कौसर नहीं
तिश्नालब हूँ शर्बत-ए-दीदार का

आकबत क्या होवेगा मालूम नहीं
दिल हुआ है मुब्तिला दिलदार का

क्या कहे तारीफ़ दिल है बेनज़ीर
हर्फ़ हर्फ़ उस मख़्ज़न-ए-इसरार का

गर हुआ है तालिब-ए-आज़ादगी
बन्द मत हो सुब्बा-ओ-ज़ुन्नार का

मस्नद-ए-गुल मन्ज़िल-ए-शबनम हुई
देख रुत्बा दीदा-ए-बेदार का

ऐ "वली" हो ना स्रिजन पर निसार
मुद्द'आ है चश्म-ए-गौहर बार का