भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

या ब्रज में कछु देख्यो री टोना / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग मधुमाध सारंग

या ब्रज में कछु देख्यो री टोना॥

लै मटकी सिर चली गुजरिया, आगे मिले बाबा नंदजी के छोना।
दधिको नाम बिसरि गयो प्यारी, लेलेहु री कोउ स्याम सलोना॥

बिंद्राबनकी कुंज गलिन में, आंख लगाय गयो मनमोहना।
मीरा के प्रभु गिरधर नागर, सुंदर स्याम सुधर रसलौना॥

शब्दार्थ :- टोना =जादू। गुजरिया =ग्वालिन। छोना = छोटा लड़का। लेलेहु री कोउ स्याम सलोना = स्यामसुन्दर को ले लो। सलोना =सुन्दर। आंख लगाय =प्रीति जोड़कर। रसलोना = सलोने रसवाला।