भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

युवा-कवि / निकानोर पार्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लिखो जैसा तुम चाहो
जिस भी अन्दाज़ में।

पुल के नीचे बहुत सारा रक्त
बह चुका है
सिर्फ़ यह साबित करता हुआ
कि एक ही रास्ता सही है।

कविता में सब कुछ जायज़ है
तुम्हें सिर्फ़ एक कोरे काग़ज़ को
बेहतर बनाना है।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मंगलेश डबराल