भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यूँ उठा करती है सावन की घटा / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

यूँ उठा करती है सावन की घटा।
जैसे उठती हो जवानी झूमके॥

जिस जगह से ले चला था राहबर।
हम वहीं फिर आ गए हैं घूमके॥

आ गया ‘सीमाब’ जाने क्या ख़याल?
ताक़ में रख दी सुराही चूमके॥