भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये उम्मीदें कैसे न होंगी बदरंग यार / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये उम्मीदें कैसे न होंगी बदरंग यार!
आदमी खुद खड़ा जहां बिकने को तैयार!

उजालों की हद से दूर निकल चुके इतना,
सुबह-शाम है सिर्फ अंधेरे का इंतजार!

देख रहा हूं मैं कफ़ में गिरता खून यहां,
कैसे कहूं इनसे नहीं अपना सरोकार।
जमाने को हंसे एक जमाना बीत गया,
आजकल सूरत से लगता बेहद बीमार।

भूख के आंगन से हटाओ ये गंदे सिक्के,
गलियों को घर बनाओ, बंद करो बाजार!