भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये किसका तसव्वुर मुझे शादाब कर गया / आशीष जोग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ये किसका तसव्वुर मुझे शादाब कर गया,
ख़्वाबों में आ के फिर कोई बेताब कर गया |

पहले तो न देखा कभी ना कोई मरासिम,
ये कौन अजनबी मुझे आदाब कर गया |

मैंने तो न सोचा था कभी ऐसा भी होगा,
ये कौन है जो सच मेरे सब ख्वाब कर गया |

सोचा था के आकर के वो पूछेगा मेरा हाल,
शिकवे शिकायतें वो बे-हिसाब कर गया |

नज़रों ने पूछे नज़रों से क्या क्या नहीं सवाल,
नज़रें मिला के कौन बे-जवाब कर गया |

कुछ लोग छिपे बैठे थे चेहरों की आड़ में,
महफ़िल में कोई सबको बे-नकाब कर गया |