भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये कैसा अंधेरा है, ये कैसा जमाना है / नरेन्द्र देव वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये कैसा अंधेरा है, ये कैसा जमाना है।
कहने को तो जीते हैं, जीने का बहाना है।

लोहे की जहाँ बस्ती, लोहे के जहाँ इन्साँ,
शीशे का जिगर अपना अब उनसे बचाना है।

खामोश रहें कब तक जब आग भड़कती हो,
गुलशन का झुलसना तो कौमों तराना है।

हम लाख करें कोशिश पर आग नहीं बुझती,
बादल को बरसना क्या अब हमको सिखाना है।

कालिख के समन्दर में हम डूब चुके बिल्कुल,
अब सुबहे जवानी तो ख्वाबों का फसाना है।

तुम जुल्मोसितम ढाओ, बरपा दो कहर हम पर,
अब कलियों के सीने में शोलों को उगाना है।

सूरज को दबोचे जो बैठे हैं मकानों में,
बन्दूकों के साये से सूरज को छुड़ाना है।