भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये दर्स भी हुआ हमें हासिल कभी-कभी / शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये दर्स भी हुआ हमें हासिल कभी-कभी
आसान ख़ुद ही होती है मुश्किल कभी-कभी

कश्ती को इक उमीद ने आकर बचा लिया
आता रहा नज़र मुझे साहिल कभी-कभी

राह-ए-जनून-ऐ-शौक में पीछे जो रह गई
मुझको पुकारती है वो मंज़िल कभी-कभी

इस ख़ौफ़ से मैं बज्म में हँसने से डर गया
रोयेगा खिल्वतों में मेरा दिल कभी-कभी

शाहिद ये राज क्या है कि मेरे मजार पर
आता है अश्कबार वो क़ातिल कभी-कभी