भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये दुनिया दर्द की मारी बहुत है / अमन चाँदपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये दुनिया दर्द की मारी बहुत है
यहाँ रहने में दुश्वारी बहुत है

बिछड़ते जा रहे हैं दोस्त सारे
सफ़र अब ज़ीस्त का भारी बहुत है

भला नादां थे कब मुफलिस के बच्चे
सदा से इनमें हुशियारी बहुत है।

तेरी डी पी को अक्सर चूमता हूँ
मेरी जाँ मुझको तू प्यारी बहुत है

उठा पाये न इसको 'मीर' तक भी
ये पत्थर इश्क़ का भारी बहुत है

मुखालिफ ही चली मेरे हमेशा
हवा के साथ दुश्वारी बहुत है

मिटा देता है हर नक़्शे-क़दम वो
'अमन' रहबर में मक्कारी बहुत है