भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये भी भला कोई वक़्त है / मनविंदर भिम्बर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये भी भला कोई वक़्त है
अब आने का

न तारों की छाँव
न गुनगुनी धूप छत पर
न हवा में मस्तियाँ
न बरसात की मदहोशियाँ

न ही
तेरे आने का
इन्तज़ार