भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये रात कैसी आई / मनविंदर भिम्बर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये रात कैसी आई
खाली हाथ
न कोई ख़्वाब
न ख़याल

पलकों की झालर पर जो तैरता था
वो चाँद आज ग़ायब है
आरजुओं की पेहरन पर जो तारे थे
वे भी मद्धम हैं
थमा हुआ है नीला आसमान

न जाने
किसके इंतज़ार में