भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये वो आँसू हैं जिन से ज़ोहरा आतिशनाक हो जावे / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये वो आँसू हैं जिन से ज़ोहरा आतिशनाक हो जावे
अगर पीवे कोई उन को तो जल कर खाक हो जावे

न जा गुलशन में बुलबुल को खज़िल मत कर की डरता हूँ
ये दामन देख कर गुल का गरेबाँ चाक हो जावे

गुनहगारों को है उम्मीद इस अश्क़-ए-निदामत से
कि दामन शायद इस आब-ए-रवाँ से पाक हो जावे

अजब क्या है तिरी ख़ुश्की की शामत से जो तू ज़ाहिद
नहाल-ए-ताक बिठलावे तो वो मिसवाक हो जावे

दुआ मस्तों की कहते हैं ‘यक़ीं’ तासीर रखती है
इलाही सब्ज़ा जितना है जहाँ में ताक हो जावे