भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यों ही / सू शि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: सू शि  » यों ही

पाले से
मेरे केश
झूलते हवा में
छोटे से बरामदे में
बीमार-सा लेटा
बेंत की चारपाई पर

वैद्य ने इस वसन्त
बताई है मुझे दिव्य नींद

संभल कर बजाता
ताओ भिक्षु
पांचवे पहर का गजर।


मूल चीनी भाषा से अनुवाद : त्रिनेत्र जोशी